शिव शक्ति एनजीओ करेगी बिजनौर में  ई-शक्ति परियोजना का क्रियान्वयन 
November 7, 2019 • Chanderpal

नसीम अहमद, बिजनौर
राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) के बिजनौर के जिला विकास प्रबंधक (डीडीएम) वीरेश आर नायक ने जानकारी देते हुए बताया कि राष्ट्रीय कृषि और विकास ग्रामीण बैंक (नाबार्ड) द्वारा शिव शक्ति ग्रामोधोग विकास संस्थान ग्रामदृविशनपुरा उर्फ विडरा पोस्ट राजा का ताजपुर जिला बिजनौर को 200 स्वयं सहायता समूहों का डिजिटल आईजेशन (ई-शक्ति) कार्यक्रम का परियोजना प्रस्ताव स्वीकृत किया गया। यह स्वीकृति पत्र नाबार्ड के उत्तर प्रदेश क्षेत्रीय कार्यालय, लखनऊ के मुख्य महाप्रबन्धक (सीजीएम) एसए पांडे के द्वारा शिव शक्ति ग्रामोधोग के सचिव गौरव कुमार को दिनांक 24 अक्टूबर 2019 को नाबार्ड के उत्तर प्रदेश क्षेत्रीय कार्यालय, लखनऊ में दिया गया। इस अवसर पर जिला बिजनौर के एलडीएम अजय कुमार भी मौजूद रहे तथा उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों के एल डी एम व एनजीओ उपस्थित रहे। 
 वीरेश आर नायक (डीडीएम) बिजनौर बताया कि ई-शक्ति कार्यक्रम स्वयं सहायता समूह के लिए किसी वरदान से कम नहीं है क्योंकि इस परियोजना के माध्यम से स्वयं सहायता समूहों का डिजिटिकरण किया जायेगा। चूंकि अब तक एसएचजी समूह गठन से लेकर आंतरिक ऋण तक का विवरण केवल रजिस्टरांे में लिख कर किया जाता था, जिसका कोई और माध्यम नहीं था तथा अधिकतर समूहो के रजिस्टर भी सही ढंग से लिखे हुए नहीं होते है।  इस कारण से भी बैंक को समूह को ऋण देने में कठनाई होती थी। इसलिए इसी प्रकार की कई और कठनाइयों का निदान करने के लिए ई-शक्ति परियोजना की शरूआत की गई है ।
शिव शक्ति एनजीओ के सचिव गौरव कुमार ने कहा कि एस एच जी का  डिजिटिकरण करने पर समूह की रेटिंग ऑनलाइन हो जायगी जिससे कि बैंक को ये निर्णय लेने में आसानी होगी, कि समूह ऋण लेने के लिए पात्र है कि नहीं।