प्रो. पूरन चंद टंडन को प्रतिष्ठित साहित्य भूषण पुरस्कार से किया गया सम्मानित
December 31, 2019 • DELHI AUR DELHI

प्रो. पूरन चंद टंडन को प्रतिष्ठित साहित्य भूषण पुरस्कार से किया गया सम्मानित

हरीश जैन

 हर वर्ष की तरह उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान ने अपने प्रतिष्ठित पुरस्कारों को घोषणा पिछले महीने कर दी थी। वर्ष 2018 के लिए पुरस्कार एक भव्य समारोह में प्रदान किए गए। वर्ष 2018 के लिए साहित्य भूषण पुरस्कार से सम्मानित होने वाले साहित्यकारों में प्रो. पूरन चंद टंडन को भी प्रतिष्ठित पुरस्कार से उत्तर प्रदेश के माननीय राज्यपाल ने सम्मानित किया। इस पुरस्कार के लिए एक प्रशस्ति पत्र, एक प्रतीक चिह्न तथा दो लाख रूपये की पुरस्कार राशि दी जाती है। प्रो. पूरन चंद टण्डन हिन्दी साहित्य के सशक्त हस्ताक्षर होने के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर के अनुवादविद तथा विशेषज्ञ हैं। इनका जन्म उत्तर प्रदेश में हुआ। इन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से हिन्दी साहित्य में एम.फिल तथा पीएचडी की उपाधि ग्रहण करके लखनऊ विश्वविद्यालय से डी. लिट् की उपाधि ग्रहण की। प्रो. टण्डन लंबे अर्से से दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग, कला संकाय में प्रोफेसर के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। इसके अलावा, वे अनेक साहित्यिक तथा अनुवाद सेवी सरकारी तथा गैर-सरकारी संस्थाओं से जुड़े हुए हैं। इनके मार्ग दर्शन में शोध कर चुके छात्र देश-विदेश में अध्यापन कार्य कर रहे हैं। इसके साथ ही इनके कुशल मार्ग दर्शन में अनुवाद विद्या ग्रहण करने वाले अनेक छात्र देशभर में सरकारी तथा गैर-सरकारी संस्थाओं में कार्यरत हैं। इनके लेखकीय अवदान पर चर्चा की जाए तो इन्होंने हिन्दी साहित्य, अनुवाद, मीडिया आदि विषयों पर अनेक पुस्तकों का लेखन तथा संपादन किया है। ये भारतीय अनुवाद परिषद् द्वारा प्रकाशित 'अनुवाद' पत्रिका के भी संपादक मंडल में शामिल हैं। देश-विदेश की पत्र पत्रिकाओं में असंख्य लेख लिखने के साथ-साथ प्रो. टण्डन ऑनलाइन पाठ्यक्रमों के माध्यम से देश के दूरदराज में स्थित विद्यार्थियों की निष्काम सेवा कर रहे हैं। रेडियो, दूरदर्शन तथा विभिन्न टी.वी चैनलों पर नियमित रूप से कार्यक्रमों में सहभागिता करते हैं। साहित्य भूषण पुरस्कार प्राप्त करने से पहले प्रो. टण्डन मॉरीशिस सम्मान, हिन्दी अकादेमी, इन्द्रप्रस्थ साहित्य भारती, अखिल भारतीय साहित्य कला मंच, दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा आदि अनेक राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय महत्व की संस्थाओं से महत्वपूर्ण पुरस्कारों से सम्मानित हो चुके हैं।