जिला उपायुक्त श्री यशपाल जी ने अधिकारियों को निर्देश दिए योजना का शुभारंभ किया
January 31, 2020 • Chanderpal

  हृदयेश सिंह,फरीदाबाद  

मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव श्री वी० उमाशंकर जी ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से जिला अधिकारियों को निर्देश दिए कि मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के तहत जिले के सभी पात्र परिवार जिनकी वार्षिक आय एक लाख 80 हजार रूपये तक है, ऐसे सभी परिवारों के परिवार पहचान-पत्र जल्द से जल्द बनवाना सुनिश्चित करें, ताकि पात्र परिवारों को 6 हजार रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जा सके। जिन परिवारों के पहचान पत्र बन चुके है, उनके खाते में अगले सप्ताह यह राशि पहुंच जाएगी। इस योजना के तहत सरकार द्वारा इस वर्ष 15 लाख परिवारों तक लाभ पहुंचाने का लक्षय निर्धारित किया गया है। जिलों में विशेष कैंप लगाकर मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के तहत परिवार पहचान-पत्र बनाए जाएं। वी० उमाशंकर जी ने कहा कि परिवार समृद्धि योजना मुख्यमंत्री का एक ड्रीम प्रोजेक्ट है, पात्र व्यक्तियों तक इसका ज्यादा से ज्यादा लाभ पहुँचाने के लिए सभी अधिकारियों को गहन रूचि लेकर कार्य करना होगा। उन्होंने बताया कि प्रत्येक दिन की कारगुजारी की रिपोर्ट मुख्यालय पहुँचे, इसके लिए सभी उपायुक्तो का डैश बोर्ड बनाया जा रहा है तथा हैल्पलाईन नम्बर भी शुरू हो चुका है।

अतिरिक्त प्रधान सचिव ने बताया कि सभी उपायुक्त अपने-अपने जिलों में कार्य योजना बनाकर काम करें, ग्राम पंचायत के माध्यम से मुनादी करवाएं। ग्राम सचिव व पटवारी ज्यादा से ज्यादा लोगों को परिवार पहचान पत्र बनवाने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने बताया कि इस योजना का लाभ उठाने के लिए सम्बंधित व्यक्ति के लिए परिवार पहचान पत्र बनवाना जरूरी है। यह परिवार पहचान पत्र सीएससी में ऑनलाईन प्रक्रिया के माध्यम से बनवाए जा रहे हैं। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि “मेरी फसल मेरा ब्यौरा” योजना के तहत अधिक से अधिक किसानों को रजिस्ट्रड करवाया जाए, ताकि किसानों को आने वाले सीजन में फसल बेचते समय किसी भी असुविधा का सामना ना करना पड़े। उन्होंने कहा कि सीएससी संचालक परिवार पहचान पत्र बनाने में खास रूचि लें। परिवार पहचान पत्र बनाने के लिए सीएससी संचालक को 20 रूपये प्रति कार्ड के हिसाब से मानदेय मिलेगा, जो उनके खाते में 15 दिन के अन्दर-अन्दर जमा करवा दिए जाएंगे। विडियो कांफ्रेंस में हरियाणा राज्य कृषि विपणन मण्डल के प्रशासक श्री जे० गणेशन तथा पंचायती राज विभाग के निदेशक श्री सुशील सारवान भी उपस्थित थे। बाद में जिला उपायुक्त श्री यशपाल जी ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस योजना के तहत पूरा जिला कवर किया जाना है, जिसमें सभी गांवों के सरपंच व पंच अपने क्षेत्र में यह पहचान-पत्र की प्रक्रिया पूरी करवाएंगे। इसमें ग्राम सचिव व पटवारी व जूनियर प्रोग्रामर गहरी रूचि लेकर कार्य पूरा करवाएं। अगर इसमें किसी गांव के पंच या सरपंच कोताही बरतते हैं तो उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। “मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि” योजना का फायदा वहीं लोग उठा सकते हैं, जिनके पास परिवार पहचान पत्र होगा। उन्होंने कहा कि योजना के तहत सभी पात्र व्यक्तियों के पहचान पत्र हर हालत में 31 मार्च तक बना दिए जाएं।